हेल्लो दोस्तों सोवागत हे हमारे एक और नया शायरी की ब्लॉग पोस्ट में। आज की इस पोस्ट में हम आपके लिए लाया हे शाम पर खूबसूरत शायरी ,सुहानी शाम शायरी। हम उम्मीद करते हे आपको ये शायरिया बहुत ही पसंद आएगा। तो चलिए दोस्तों कुछ सुहानी शाम की शायरी पड़ते हे।

Suhani Shaam Ki Shayari - सुहानी शाम पर शायरी
Khubsurat shaam ki shayari

"ढलती शाम सी खूबसूरत हो तुम
मगर शाम की ही तरह बहुत दूर हो तुम"

"Koee Suhaanee Dhun Jaisee Vo,
Kaanon Mein Gun- Gunaatee Hain.
Phir Bhee Dil Mein Na Jaane Kyon,
Ek Khaamoshee Chha Jaatee Hain."
Shaam par hindi shayari


"Dhalatee Shaam See Khoobasoorat Ho Tum,
Magar Shaam Kee Hee Tarah Bahut Door Ho Tum"
Suhani sham ki shayari


"Aur Na Koi Tammana Hai Na Chaahat Hai,
Bas Tum Sath Raho Ye Khwashish Hai Humari"
Shaam ki romantic shayari


"Jindagee Kee Har Subah Kuchh Sharte Le Kar Aatee Hai,
Jindagee Kee Har Shaam Kuchh Tajurbe De Kar Jaatee Hai !!"
Hindi shayari on shaam


"Dhalate Din Sa Main, Gujaratee Raat See Tum,
Ab Tham Bhee Jao, Ek Mulaakaat Ko"

"ढलते दिन सा मैं, गुजरती रात सी तुम,
अब थम भी जाओ, एक मुलाकात को"

"तेरे आने की उम्मीद और भी तड़पाती है
मेरी खिड़की पे जब शाम उतर आती है"

"Shaam Utar Aaee Hai Dil Mein,
Lagee Huee Hai Mahafil Dil Mein।"

"Shaam Ho Gaee Hai,
Parinde Apane-Apane Ghaunsalon Kee Taraf Ud Chale Hain.
Log Kaam Khatm Karake Apanon."

Sham Ki Status

"रात के इंतज़ार में सुबह से मुलाकात हो गई,
शायद कल की वो शाम ढलना भुल गई"

"कहाँ की शाम और कैसी सहर, जब तुम नही होते,
तड़पता है ये दिल आठो पहर, जब तुम नही होते"

"Kahaan Kee Shaam Aur Kaisee Sahar, Jab Tum Nahee Hote,
Tadapata Hai Ye Dil Aatho Pahar, Jab Tum Nahee Hote"

"Yoon To Dekhee Hain Aur Bhee Khoobasoorat Cheejen Hamane
Magar Dhalatee Shaam See Kisee Mein Baat Kahaan !!"

"Vo Khud Ko Maanjhee.. Kashtee Banaata Hai Mujhe
Tanha Roz Kinaaron Pe.. Chhod Jaata Hai Mujhe,"

"कभी मिलते है एक रोज अकेली शाम कीं तरह,
तुझे चाहूंगी उस रोज मै ऱमजान कीं तरह...!!!"

"Kabhee Milate Hai Ek Roj Akelee Shaam Keen Tarah,
Tujhe Chaahoongee Us Roj Mai Ramajaan Keen Tarah.!!"

"ये शाम और उस पर तेरी यादों की हलावत,
इक जाम में दो शै का नशा ढूंढ रहा हूँ"

"Ye Shaam Aur Us Par Teri Yadon Ki Halavat,
Ik Jam Mein Do Shai Ka Nasha Dhoondh Raha Hoon"
शाम की शायरी
"ये शाम और उस पर तेरी यादों की हलावत,
इक जाम में दो शै का नशा ढूंढ रहा हूँ"

"Ye Shaam Aur Us Par Teree Yaadon Kee Halaavat,
Ik Jaam Mein Do Shai Ka Nasha Dhoondh Raha Hoon"

"शाम ढले ये सोच के बैठे हम अपनी तस्वीर के पास
सारी ग़ज़लें बैठी होंगी अपने अपने मीर के पास"

"Shaam Dhale Ye Soch Ke Baithe Ham Apanee Tasveer Ke Paas
Saaree Gazalen Baithee Hongee Apane Apane Meer Ke Paas"

"फ़िज़ा में महकती शाम हो तुम
प्यार में झलकता जाम हो तुम
सीने में छुपाए फिरते है हम यादें तुम्हारी."

"Fiza Mein Mahakatee Shaam Ho Tum..
Pyaar Mein Jhalakata Jaam Ho Tum..
Seene Mein Chhupae Phirate Hai Ham Yaaden Tumhaaree"

Romantic Sham Ki Shayari


"मेरी बाँहों में बहकने की सज़ा भी सुन ले,
अब बहुत देर में आज़ाद करूँगा तुझको।"

"Meree Baanhon Mein Bahakane Kee Saza Bhee Sun Le,
Ab Bahut Der Mein Aazaad Karoonga Tujhako."

"तेरे रुखसार पर ढले हैं मेरी शाम के किस्से,
खामोशी से माँगी हुई मोहब्बत की दुआ हो तुम"

"Tere Rukhasaar Par Dhale Hain Meree Shaam Ke Kisse,
Khaamoshee Se Maangee Huee Mohabbat Kee Dua Ho Tum"

"तुम मिल गए तो मुझ से नाराज है खुदा,
कहता है कि तू अब कुछ माँगता नहीं है।"

"Tum Mil Gae To Mujh Se Naaraaj Hai Khuda,
Kahata Hai Ki Too Ab Kuchh Maangata Nahin Hai."

"फिजा में महकती शाम हो तुम,
प्यार का छलकता जाम हो तुम,
सीने में छुपाये फिरते हैं तुम्हें,
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हो तुम।"

"Phija Mein Mahakatee Shaam Ho Tum,
Pyaar Ka Chhalakata Jaam Ho Tum,
Seene Mein Chhupaaye Phirate Hain Tumhen,
Meree Zindagee Ka Doosara Naam Ho Tum."

"बदलना आता नहीं हमें मौसम की तरह,
हर इक रुत में तेरा इंतज़ार करते हैं,
ना तुम समझ सकोगे जिसे क़यामत तक,
कसम तुम्हारी तुम्हें इतना प्यार करते हैं।"

"Badalana Aata Nahin Hamen Mausam Kee Tarah,
Har Ik Rut Mein Tera Intazaar Karate Hain,
Na Tum Samajh Sakoge Jise Qayaamat Tak,
Kasam Tumhaaree Tumhen Itana Pyaar Karate Hain."

"मेरा हर लम्हा चुराया आपने,
आँखों को एक ख्वाब देखाया आपने,
हमें ज़िंदगी दी किसी और ने,
पर प्यार में जीना सिखाया आपने।"

"Mera Har Lamha Churaaya Aapane,
Aankhon Ko Ek Khvaab Dekhaaya Aapane,
Hamen Zindagee Dee Kisee Aur Ne,
Par Pyaar Mein Jeena Sikhaaya Aapane."

"सुबह तुझ से होगी मेरी शाम तुझ से होगी,
जो तू मुझे मिले तो मेरी पहचान तुझ से होगी,
में प्यार का परिंदा ये गगन चूमता हूँ,
मिल जाये जो शेह तेरी तो मेरी उड़ान तुझ से होगी।"

"Subah Tujh Se Hogee Meree Shaam Tujh Se Hogee,
Jo Too Mujhe Mile To Meree Pahachaan Tujh Se Hogee,
Mein Pyaar Ka Parinda Ye Gagan Choomata Hoon,
Mil Jaaye Jo Sheh Teree To Meree Udaan Tujh Se Hogee."

"आँखों की चमक पलकों की शान हो तुम,
चेहरे की हँसी लबों की मुस्कान हो तुम,
धड़कता है दिल बस तुम्हारी आरज़ू में,
फिर कैसे ना कहूँ कि मेरी जान हो तुम।"

"Aankhon Kee Chamak Palakon Kee Shaan Ho Tum,
Chehare Kee Hansee Labon Kee Muskaan Ho Tum,
Dhadakata Hai Dil Bas Tumhaaree Aarazoo Mein,
Phir Kaise Na Kahoon Ki Meree Jaan Ho Tum."

शाम पर शायरी 


"हुई शाम उनका ख़याल आ गया
वही ज़िंदगी का सवाल आ गया "

"यूं तो देखी हैं और भी खूबसूरत चीजें हमने
मगर ढलती शाम सी किसी में बात कहां !!"

"कोई सुहानी धुन जैसी वो,
कानों में गुन- गुनाती हैं।
फिर भी दिल में न जाने क्यों,
एक ख़ामोशी छा जाती हैं।"

"Huee Shaam Unaka Khayaal Aa Gaya,
Vahee Zindagee Ka Savaal Aa Gaya"

"शाम खाली है जाम खाली है,
ज़िन्दगी यूँ गुज़रने वाली है,
सब लूट लिया तुमने जानेजाँ मेरा,
मैने तन्हाई मगर बचा ली है."

"Shaam Khaalee Hai Jaam Khaalee Hai,
Zindagee Yoon Guzarane Vaalee Hai,
Sab Loot Liya Tumane Jaanejaan Mera,
Maine Tanhaee Magar Bacha Lee Hai."

"ढलती शाम का खुला एहसास है, 
मेरे दिल में तेरी जगह कुछ खास है, 
तू नहीं है यहाँ मालूम है मुझे पर, 
दिल ये कहता है तू यहीं मेरे पास है। "

"Dhalatee Shaam Ka Khula Ehasaas Hai, 
Mere Dil Mein Teree Jagah Kuchh Khaas Hai, 
Too Nahin Hai Yahaan Maaloom Hai Mujhe Par, 
Dil Ye Kahata Hai Too Yaheen Mere Paas Hai. "

"खुशबू जैसे लोग मिले अफ़साने में
एक पुराना खत खोला अनजाने में
शाम के साये बालिस्तों से नापे हैं
चाँद ने कितनी देर लगा दी आने में .."

"Khushaboo Jaise Log Mile Afasaane Mein
Ek Puraana Khat Khola Anajaane Mein
Shaam Ke Saaye Baaliston Se Naape Hain
Chaand Ne Kitanee Der Laga Dee Aane Mein"

शाम पर खूबसूरत शायरी

"शाम सूरज को ढलना सिखाती है,
शमा परवाने को जलना सिखाती है,
गिरने वाले को होती तो है तकलीफ,
पर ठोकर ही इंसान को चलना सिखाती है"

"Sham Suraj Ko Dhalna Sikhati Hai
Shama Parwane Ko Jalana Sikhati Hai
Girne Wale Ko Hoti To Hai Takleef
Par Thokar Hi Insaan Ko Chalna Sikhati Hai"

"मैं तमाम दिन का थका हुआ,
तू तमाम शब का जगा हुआ,
ज़रा ठहर जा इसी मोड़ पर,
तेरे साथ शाम गुज़ार लूँ।"

"Main Tamaam Din Ka Thaka Hua,
Too Tamaam Shab Ka Jaga Hua,
Zara Thahar Ja Isee Mod Par,
Tere Saath Shaam Guzaar Loon."

"सुबह होती नही शाम ढलती नही
न ज़ाने क्या खूबी है आप में
आप को याद किए बिना खुशी मिलती नही"

"Subah Hotee Nahee Shaam Dhalatee Nahee
Na Zaane Kya Khoobee Hai Aap Mein
Aap Ko Yaad Kie Bina Khushee Milatee Nahee"

"जिन्दगी को खुश रहकर जिओ 
रोज शाम सिर्फ सूरज ही नहीं ढलता
अनमोल जिन्दगी भी ढलती है!!"

"Jindagee Ko Khush Rahakar Jio 
Roj Shaam Sirph Sooraj Hee Nahin Dhalata
Anamol Jindagee Bhee Dhalatee Hai!!"

Suhani Sham Ki Shayari

"तेरी निगाह उठे तो सुबह हो, 
पलके झुके तो शाम हो जाये
अगर तू मुस्कुरा भर दे तो कत्ले आम हो जाये."

"Teree Nigaah Uthe To Subah Ho, 
Palake Jhuke To Shaam Ho Jaaye
Agar Too Muskura Bhar De To Katle Aam Ho Jaaye."

"हक़ीक़त ना सही तुम,
ख़्वाब की तरह मिला करो,
भटके हुए मुसाफिर को,
चांदनी रात की तरह मिला करो।"

"Haqeeqat Na Sahee Tum,
Khvaab Kee Tarah Mila Karo,
Bhatake Hue Musaaphir Ko,
Chaandanee Raat Kee Tarah Mila Karo."

"यूँ तो हर शाम उम्मीदों में गुज़र जाती थी
आज कुछ बात है जो शाम पे रोना आया
ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया
जाने क्यों आज तेरे नाम पे रोना आया।"

"Yoon To Har Shaam Ummeedon Mein Guzar Jaatee Thee..
Aaj Kuchh Baat Hai Jo Shaam Pe Rona Aaya..
Ai Mohabbat Tere Anjaam Pe Rona Aaya.
Jaane Kyon Aaj Tere Naam Pe Rona Aaya."

ये भी पढ़िए